News

कोरोना से बचाने को मुस्लिम महिलाओं ने उतारी प्रभु श्रीराम की आरती

रामनवमी के मौके पर वाराणसी में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने भगवान श्रीराम की आरती उतारी। इन महिलाओं ने भगवान से प्रार्थना की कि वह कोरोना से देश को बचाएं। महिलाओं ने इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में गुरुवार को रामनवमी के मौके पर मुस्लिम महिलाओं ने कोरोना के संकट से मुक्ति के लिए प्रभु श्रीराम की आरती उतारी। मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में लिखी श्रीराम आरती का गायन किया। साथ में हनुमान चालीसा का पाठ कर कोरोना रूपी राक्षस के आतंक से देश को बचाने की प्रार्थना की।
मुस्लिम महिला फाउंडेशन की ओर से रामनवमी पर आयोजित होने वाला कार्यक्रम सांप्रदायिक एकता की मिसाल के रूप में देखा जाता रहा है। इस बार वरुणापार के लमही इलाके में स्थित सुभाष भवन में आयोजित कार्यक्रम में मुस्लिम महिलाओं ने कोरोना संकट से मुक्ति के लिए प्रभु श्रीराम से प्रार्थना की।

सोशल डिस्टेंसिंग का रखा पूरा खयाल
लॉकडाउन के चलते भीड़ की जगह मुस्लिम महिला फाउंडेशन की नैशनल सदर नाजनीन अंसारी के साथ केवल उन चार महिलाओं ने ‘भए प्रगट कृपाला दीन दयाला…’ गाकर आरती उतारी जो प्रतिदिन गरीब-जरूरतमंदों का पेट भरने को भोजन बनाने में जुटी हैं। आरती में शामिल सभी महिलाओं ने ने मास्‍क लगा रखा था। इसके बाद हनुमान चालीसा का पाठ भी किया।

मुस्लिम महिला फाउंडेशन की सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि तबलीगी जमात के कट्टरपंथी मौलानाओं ने पूरे देश को संकट में डालने का पाप किया है। इस पाप से प्रभु श्रीराम ही मुक्ति दिला सकते हैं। इस समय पूरे देश को राम का नाम जपना चाहिए ताकि लॉकडाउन के दौरान घर में रहने और न्‍यूनतम आवश्‍यकता में अपनी पूर्ति का धैर्य प्राप्‍त हो।

Related Articles

Back to top button
Close